Showing posts with label heart touching sad love. Show all posts
Showing posts with label heart touching sad love. Show all posts

Sunday, 22 October 2017

October 22, 2017

Sad shayari

Aaj sochta hu yarro wo kya se kya ho gae ,
Wo hmare hote hue bhi bewafa ho gae ,
hum to pathar tarash kar bhhane chale the ,
khuda magar wo khud hi khuda se pathar ho gae !!!




Pher lete hsi najar ,dil se bhula dete hai ,
kya log yu hi wafa ka sila dete hai ,
wada kiya tha eo phir bhi nahi aae majar par ,
   humne to jaan di uske essi eatbaar par !!!!



Milne ka wada kar ke gai thi ,
lot aau giii jindgi me wapas yae bol kar gai thi ,
aae hai ab wo janaje par hmare ,
wada to aapna nibhane chali thi !!!!!!



Ek baar hi jii bhar kar saja ku nahi dete ?
me haraf galat hu muje mita ku nahi dete ?
  Moti hu to pirolo aapne daman pe muje.....
Aansu hu to palko se gira ku nahi dete muje ?
saya hu to sath naa rakhne ki wajah kya hai ?
     Pathar hu to rashte se hata ku niii dete muje ?




MERi ruh naa samati to bhul jata tumhae ,
Tum itna pass nahi hoti to bhul jata tumhae ,
yaah! kahate hue mera taluk nahi hai tumse koi ,
   AAkho me aansu naa aate to bhul jata tumhae!!!

Monday, 14 August 2017

August 14, 2017

shayari

ले  रहा था महोबत के  बाजार से इश्क़  चादर ,
लोगो ने पीछे से कहा आगे जा कर कफ़न भी ले लेना।




मौत से कह दो हम से नाराजगी खत्म कर ले अब ,
  वो तो आपनो ने भी बदलना चालू कर दिया है। 





तुम मानो या ना  मानो मेरी फ़िक्र आपको भी है ,
    ये बात बहुत बार महसूस की है दिल ने। 



अजीब सी हो गई है जिंदगी मेरी आजकल ,
दूसरे आजकल हल पूछ रहे है.. 
घर वालो को पता भी नहीं है। 




सीने में जो धड़कता हिस्सा है मेरे ,
    उसी का ये सारा किस्सा है।  



ना जाने क्या मासूमियत  तुम्हारे चहेरे पर ,
जो छुपकर देखने में ज्यादा ाचा लगता है आपके सामने ना आकर।  

Thursday, 10 August 2017

August 10, 2017

shayari

मैंने यादों को उठा कर देखा था आज..... 
कभी आप भी हमारे हुआ करते थे। 


पूरा दिन गुजर गया तुमने याद तक नहीं किया 
  मुझे पता  नहीं था इश्क़ में  sunday भी होता है। 



कोई जंजीर नहीं मगर फिर भी गिरफ्तार हु में 
  क्या खबर थी आपको ये हुनर भी  आता है।  



खैर कुछ तो किया आपने 
चलो तबा ही सही। 


निकले हम तो दुनिया की भीड़ का पता चला 
 की हर वो सक्स एक्ला है जिसने भी यहाँ महोबत की है।  


दो हिसों में  divide दो गए मेरे दिल के अरमान सारे 
  कुछ पाने के लिए निकले तो कुछ हमें समझाने के लिए।  



इस दुनिया में अजनबी रहना ही ठीक है 
लोग बहुत दुःख देते है यहाँ आपने बनाने के बाद।  


सिर्फ ,महोबत ही ऐसा खेल है 
जो करना सिख जाता है वही हर जाता है। 



                      💕💕💕💕💕💕💖💖💖💖💔💔💞💞
August 10, 2017

shayari

जहर से ज्यादा खतरनाक होती है 
महोबत जिसे चखने के बाद आदमी धीरे धीरे मरता है।  







बुरे वक़्त में सब के असली रंग  है 
दिन के उजाले में तो पानी भी चाँदी लगता है।  





जो कभी लिपट जाया करती थी बदलो के गरजने के कारन 
ओ आजकल बदलो से ज्यादा गरजती है। 




अक्सर वक़्त पड़ने पर वही साथ छोड़ जाते है 
जिन पर हम जान से ज्यादा विस्वास करते है।  




हम तो नरम पतों की शाख हुआ करते थे 
छिले इतने गए की खंजर बन गए हम। 




सुन pagli मेरा  look अपने अंदर  install मत करना 
वरना dil तेरा hang हो जाऐगा।  





में तो दिया हु दुश्मनी तो मेरी  अँधेरे से है 
हवा तो वैसे ही मेरे खिलाफ खड़ी हुई है।