Tuesday, 16 October 2018

Tanhai Shayari in Hindi -हिंदी तन्हाई शायरी

Tanhai Shayari in Hindi

tanhai-shayari, hindi shayari


1
कोसते रहते हैं अपनी जिंदगी को उम्रभर
भीड़ में हंसते हैं मगर तन्हाई में रोया करते हैं


2
किस से कहु, अपनी तन्हाई का आलम.
लोग चहरें के हसी देख, बहुत खुश समझते हैं.


3
ऐ सनम तू साथ है मेरे मेरी हर तन्हाई में
कोई गम नहीं की तुमने वफ़ा नहीं की
इतना ही बहुत है की तू शामिल है मेरी तबाही में।


4
खौफ अब खत्म हुआ सबसे जुदा होने का..
अपनी तन्हाई में हम अब मसरूफ  बहुत रहते हैं..


5
तन्हाई की आग में कहीं जल ही न जाऊँ,
के अब तो कोई मेरे आशियाने को बचाले।


tanhai bhari shayari in hindi, hindi shayari


6
ब भी तन्हाई में उनके बगैर जीने की बात आयी
उनसे हुई हर एक मुलाकात मेरी यादों में दौड आई

Tanhai Shayari in Hindi


7
“इन उदास कमरों के.. कोनों की गीली तन्हाई.. …
वक़्त की धूप के साथ सूख ही जायेगी…!!


8
कहने को साथ अपने इक दुनिया चलती है…
पर छुपके इस दिल में तन्हाई पलती है…!!


9
रिश्ते तो नहीं रिश्तों की परछाई मिली…
ये कैसी भीङ है बस यहाँ तन्हाई मिली….


10
कुछ लोग जमाने में ऐसे भी तो होते हैं..
महफिल में तो हंसते हैं तन्हाई में रोते हैं.


hindi shayari, tanhai bhari shayari in hindi


11
हमारे चले जाने के बाद„ ये समुंदर भी पूछेगा तुमसे…
कहा चला गया वो शख्स„
जो तन्हाई मे आ कर„ बस तुम्हारा ही नाम लिखा करता था…!!!

Tanhai Shayari in Hindi


12
मोहब्बत के रास्ते कितने भी मखमली क्यो ना हो…
खत्म तन्हाई के खंड़हरो मेँ ही होते है।


13
ख्वाब ख्याल, मोहब्बत, हक़ीक़त, गम और तन्हाई,
ज़रा सी उम्र मेरी किस-किस के साथ गुज़र गयी !!!


14
बचपन में जहां चाहा हंस लेते थे,
जहां चाहा रो लेते थे पर अब मुस्कान को तमीज़ चाहिए
और आंसुओं को तन्हाई


15
उनके जाने के बाद,तन्हाई का सहारा मिला है
इसकी आगोश में आये, फिर निकलना नही आया


16
कितनी अजीब है मेरे अन्दर की तन्हाई भी
हजारो अपने है मगर याद सिर्फ वो ही आती है

Tanhai Shayari in Hindi


17
वो उँगलियों पे गिनते हैं ज़ुल्म जिनका कुछ हिसाब नही
तुम नहीं, गम नहीं, शराब नहीं ऐसी तन्हाई का जवाब नही


18
कुछ देर बैठी रही पास, और फिर उठ कर चली गई
गुरुर तो देखो तन्हाई का ये भी बेवफ़ा हो कर चली गई

No comments: